Kota News: एक और कोचिंग स्टूडेंट ने तोड़ा जिंदगी से नाता, पश्चिम बंगाल से NEET की तैयारी करने आया था

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

हाइलाइट्स

कोटा में जारी है कोचिंग स्टूडेंट के सुसाइड का सिलसिला
कोटा में बीते एक साल में कोचिंग स्टूडेंट के सुसाइड केस बढ़े

कोटा. कोचिंग सिटी कोटा में करीब दो महीने बाद एक बार फिर से दिल को दहला देने वाली खबर सामने आई है. यहां डॉक्टर बनने का सपना लेकर आए एक और स्टूडेंट ने फांसी का फंदा लगाकर मौत को गले लगा लिया है. कोचिंग स्टूडेंट की सुसाइड की खबर सामने आते ही पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया. पुलिस प्रशासन ने पिछले दिनों ही हॉस्टल्स और पीजी के कमरों में लगे पंखों में एंटी हैंगिंग डिवाइस लगाये जाने के निर्देश दिए थे. लेकिन कई पीजी के कमरों में एंटी हैंगिंग डिवाइस नहीं लगाया गया और एक और छात्र ने पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली.

जानकारी के अनुसार सुसाइड वाला स्टूडेंट फोरिद हुसैन (20) पश्चिम बंगाल का रहने वाला था. वह कोटा के वक्फ नगर इलाके में पीजी में कमरा लेकर रह रहा था. उसने सोमवार शाम फांसी का फंदा लगा लिया. जैसे ही घटना का पता चला तो उसे फांसी के फंदे से उतारकर निजी हॉस्पिटल ले जाया गया. लेकिन वहां डॉक्टर ने मेडिकल जांच के बाद उसे मृत घोषित कर दिया. शव को एमबीएस हॉस्पिटल की मोर्चरी में शिफ्ट करवाया गया. उसके परिजनों को सूचना दी गई। इस पर वे कोटा पहुंचे. बुधवार को शव का पोस्टमार्टम करवाकर उसे परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया.

कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है
फिलहाल आत्महत्या के कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है. पुलिस की प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि फोरिद पिछले साल से नीट की तैयारी कर रहा था. मामले की जांच दादाबाड़ी थाना पुलिस कर रही है. लेकिन पुलिस ने इस मामले चुप्पी साध रखी है और वे मीडिया से दूरी बनाए हुए है. कोचिंग स्टूडेंट के सुसाइड का मामला सामने आने के बाद जिला कलक्टर एमपी मीणा ने संबंधित कोचिंग संस्थान को नोटिस जारी किया है. प्रशासन ने गाइडलाइन की पालना नहीं करने पर नोटिस जारी कर कोचिंग संस्थान से तीन दिन में स्पष्टीकरण मांगा है.

लगातार सामने आ रहे हैं सुसाइड केस
उल्लेखनीय है कि इस साल महज 11 माह में 27 कोचिंग स्टूडेंट सुसाइड कर चुके हैं. कोचिंग स्टूडेंट के लगातार सामने आ रहे सुसाइड केस के बाद यहां पुलिस प्रशासन बेहद चिंतित है. इसको लेकर पिछले दिनों शिक्षा सचिव की अध्यक्षता में एक हाई पावर कमेटी भी बनाई गई थी. उस कमेटी ने विस्तृत चर्चा के बाद नई गाइड लाइन जारी की थी. उसमें कोचिंग सेंटर्स और हॉस्टल्स समेत पीजी संचालकों को कई निर्देश दिए गए थे. लेकिन उनकी गंभीरता से पालना नहीं की जा रही है.

Tags: Crime News, Kota Coaching, Kota news, Rajasthan news, Suicide Case

Source link

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer