जब सुरंग में जिंदगी की जंग लड़ रह थे मजदूर, तब क्या कर रहा था PMO? पढ़ें इनसाइड स्टोरी

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

Silkyara Tunnel Rescue Operation: 12 नवंबर को जैसे ही उत्तरकाशी की सिलक्यारा सुरंग में मजदूरों के फंसे होने की खबर प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) आई, सबसे पहले प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव पीके मिश्रा ने पीएम नरेंद्र मोदी को इसकी खबर दी. PMO ने पहले दिन से रेस्क्यू ऑपरेशन को मॉनिटर करना शुरू कर दिया. पीएम के प्रमुख सचिव पीके मिश्रा ने पहले डिप्टी सेक्रेटरी मंगेश घिल्डियाल (Mangesh Ghildiyal) को फौरन मौके पर जाकर हालात का जायजा लेने और रेस्क्यू ऑपरेशन सफलतापूर्वक पूरा होने तक वहीं रुकने को कहा.

इसी बीच प्रधानमंत्री के पूर्व सलाहकार भास्कर खुल्बे को भी मौके पर पहुंचने को कहा गया. खुल्बे को भी सिलक्यारा टनल के पास रेक्स्क्यू ऑपरेशन के लिए बने वॉर रूम में रुककर हर दिन हालात की निगरानी करने का निर्देश दिया गया.

PMO की उस मीटिंग में क्या हुआ था?
20 नवंबर को प्रधानमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी पीके मिश्रा ने रेस्क्यू ऑपरेशन में शामिल सभी एजेंसियों की एक समन्वय बैठक बुलाई. इस मीटिंग में हर एजेंसी के प्रमुख को खुद पूरे ऑपरेशन की पर्सनल लेवल पर मॉनीटरिंग करने को कहा गया और हर घंटे पीएमओ को रिपोर्ट देने का निर्देश दिया गया.

इस मीटिंग में सड़क परिवहन एवं यातायात मंत्रालय के सचिव और गृह सचिव को सिलक्यारा तक जरूरी उपकरण और मशीनें पहुंचाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाने का निर्देश दिया गया. साथ ही एनडीएमए को कहा गया कि वह हर दिन रेस्क्यू ऑपरेशन से जुड़ी जानकारी मीडिया को दें.

इसी बीच 27 नवंबर को प्रिंसिपल सेक्रेटरी पीके मिश्रा (PK Mishra) खुद आला अफसरों के साथ सिलक्यारा पहुंचे. उन्होंने सुरंग के अंदर फंसे मजदूरों से बातचीत भी की और उन्हें सुरक्षित बाहर निकालने का वादा किया.

PM का आदेश बिल्कुल साफ था…
इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक पीएम मोदी ने साफ आदेश दिया था कि सुरंग के अंदर फंसे मजदूरों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए जिस भी उपकरण, मशीन अथवा संसाधन की जरूरत हो, उसे फौरन सिलक्यारा पहुंचाया जाए. रेस्क्यू ऑपरेशन में आरवीएनएल, ओएनजीसी एसजेवीएनएल (SJVNL), टीएचडीसी और डीआरडीओ जैसी संस्थाएं इन्वॉल्व की गईं. ड्रोन से लेकर रोबोट और एंडोस्कोपी कैमरा जैसी चीजें फटाफट सिलक्यारा भेजी गईं.

इसके अलावा आर्मी, एयर फोर्स, बीआरओ, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ की टीमें भी लगातार काम करती रहीं.

जब सुरंग में जिंदगी की जंग लड़ रह थे मजदूर, तब क्या कर रहा था PMO? पढ़ें इनसाइड स्टोरी

PM हर दिन ले रहे थे जानकारी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर दिन उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से रेस्क्यू ऑपरेशन की जानकारी ले रहे थे. पीएमओ के अफसर लगातार पीएम को ब्रीफ कर रहे थे. आखिरकार पीएमओ, उत्तराखंड सरकार और तमाम एजेंसियों की कड़ी तपस्या रंग लाई. 17 दिन सिलक्यारा सुरंग में फंसे सभी 41 श्रमिक सकुशल बाहर निकाल लिये गए.

Tags: Pm narendra modi, PMO, PMO Meeting, Uttarkashi Latest News, Uttarkashi News

Source link

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer