ऐसा क्‍या हुआ जो हंसते-हंसते लोटपोट हुए ED के अध‍िकारी? क्‍या दीपवाली की रात से शुरू हुआ तंत्र-मंत्र? जानें ड‍िटेल

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

साहेब, आपके खिलाफ और कई अन्य अधिकारियों के खिलाफ जादू-टोना यानी  तंत्र-मंत्र कराया जा रहा है. यह तंत्र-मंत्र की कार्रवाई दीपावली की रात से शुरू हुई है जो अगले दो दिनों तक चलेगी. इसके लिए पश्चिम बंगाल से विशेष तौर पर कुछ बड़े स्तर के तांत्रिकों को बुलाया गया है. …. ये शब्द /इनपुट्स  राजनीतिक गलियारों, ब्यूरोक्रेसी से लेकर कई अन्य बड़े स्तर के कारोबारियों के बीच में रहने वाले एक मुखबिर के हैं, जो मूल रूप से  झारखंड का रहने वाला है. उसके द्वारा ही इस मामले में जांच एजेंसी को यह जानकारी साझा किया गया .

राजनीतिक गलियारा हो या मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े आरोपियों के बीच केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी के नाम का खौफ है. यह जांच एजेंसी आरोपियों के लिए एक तरह के खौफ का पर्याय और पीड़ित लोगों के लिए न्याय का एक बड़ा आसरा है, लेकिन पिछले कुछ समय से झारखंड, पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ सहित कई राज्यों में जांच एजेंसी ईडी की कई बड़ी कार्रवाई लगातार चल रही है.

जादू-टोना और अंधविश्वास  की बात सुनते हुए हंसते-हंसते लोटपोट हुए अधिकारी

इसी कार्रवाई से परेशान होकर झारखंड में कुछ आरोपियों के द्वारा पश्चिम बंगाल से विशेष तौर पर तंत्र-मंत्र विद्या में निपुण तांत्रिकों को झारखंड में बुलाया गया और उनसे यह अनुरोध किया गया क‍ि जो अधिकारी और जांच एजेंसी उसके खिलाफ काम कर रही है और लगातार एक्शन ले रही है. उनके खिलाफ तंत्र-मंत्र से रोका जा सके और कार्रवाई करने वाले अधिकारियों का व्यक्तिगत तौर पर, आर्थिक तौर पर और सामाजिक तौर पर उसका नुकसान या उसका ट्रांसफर हो सके. जिसका फायदा उन आरोपियों को हो जाए, इसलिए जादू-टोना करने के लिए तांत्रिकों द्वारा अनुष्ठान करवाया गया.

इस मामले की जानकारी एक मुखबिर द्वारा जांच एजेंसी को हुई, हालांकि जांच एजेंसी के अधिकारियों को जब इस मामले की जानकारी हुई तो अधिकारी और कर्मचारी हंसते-हंसते लोटपोट हो गए. यहां तक की ईडी मुख्यालय में भी जब वरिष्ठ अधिकारियों को जब इस मामले की जानकारी हुई तो वो ही हंसते-मुस्कुराते हुए इस मामले की जानकारी लेने में बहुत दिलचस्पी लेते हुए नजर नहीं आए. हालांकि हमारे कुछ सूत्र बताते हैं क‍ि कुछ अधिकारी जो झारखंड से जुड़े मामले की तफ्तीश में जुटे हुए हैं. उनके परिजन भावुक हो गए और परेशान होकर अधिकारी को ही प्यार से डांटने लगे. खासतौर पर बुजुर्ग माता-पिता,पत्नी नाराज होकर नौकरी छोड़ने की बात कहने लगे, लेकिन बाद में इस अंधविश्वास के बारे में बताकर अधिकारी अपने आपको संतुष्ठ कर लिया.

तांत्रिक ढूंढ रहे थे वरिष्ठ जांच अधिकारी की तस्वीर
जांच एजेंसी के सूत्र बताते हैं की जैसी की उनके मुखबिर ने उन्हें जानकारी साझा की है. उन तांत्रिकों के द्वारा संबंधित जांच अधिकारी की तस्वीर भी तंत्र-मंत्र के लिए मांगी गई थी, लेकिन अधिकारी की शक्ल कोई तांत्रिक या आरोपी पहचानता ही नहीं था. न ही उसकी तस्वीर सोशल मीडिया सर्च इंजन में मौजूद थी, इसलिए मामले की गंभीरता को देखते हुए उन तांत्रिकों ने ईडी मुख्यालय और रांची स्थित ईडी जोनल ऑफिस की तस्वीर को सामने रखकर तांत्रिकों ने अपने अंधविश्वास संबंधित खानापूर्ति को पूरा किया और इस कार्य हेतु लाखों-रुपये चार्ज किया.

हालांकि इस मामले में न तो कहीं कोई औपचारिक तौर पर कोई शिकायत दर्ज हुई है, न ही कोई शिकायत दर्ज करवाना चाहते हैं और न तो कोई भी अधिकारी औपचारिक तौर पर इस मसले पर खुलकर बोलना चाहते हैं, लेकिन यह बात भी सच है कि अधिकारी से इस मामले पर वो खुलकर हंसते जरूर हैं और कहते हैं कि आपको भी इस मामले की जानकारी हो गई. खैर, जो कुछ भी हो जांच एजेंसी का डर तो कई आरोपियों के लिए काफी मायने रखता है.

Tags: Enforcement directorate

Source link

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer