PM मोदी ने BRS और कांग्रेस को बताया एक-दूसरे की कार्बन कॉपी, KCR को कहा ‘फार्महाउस सीएम’

👇खबर सुनने के लिए प्ले बटन दबाएं

निर्मल (तेलंगाना). प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) और कांग्रेस को एक-दूसरे की कार्बन कॉपी बताया और कहा कि तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव विचार और दृष्टिकोण में ‘कांग्रेसी’ हैं. यहां एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने दावा किया कि तेलंगाना में बीआरएस के ‘कुशासन’ का एकमात्र विकल्प भाजपा है. उन्होंने कहा कि भाजपा कांग्रेस की ‘सुल्तान शाही’ और बीआरएस की ‘निजाम शाही’ से लड़ रही है.

उन्होंने लोगों से दोनों पार्टियों को खारिज करने का आग्रह करते हुए कहा, “कांग्रेस के लिए हर वोट बीआरएस को जाएगा और पारिवारिक शासन, भ्रष्टाचार और तुष्टिकरण को मजबूत करेगा.” यह विश्वास जताते हुए कि भाजपा अगले साल केंद्र में तीसरी बार सत्ता में आएगी, उन्होंने कहा कि अगर तेलंगाना भाजपा को वोट देकर सत्ता में लाता है, तो डबल इंजन सरकार राज्य के विकास को गति दे सकती है.

पीएम मोदी ने आरोप लगाया कि कांग्रेस और बीआरएस दोनों सामाजिक न्याय के खिलाफ हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने कभी भी एससी, एसटी और ओबीसी नेताओं को आगे नहीं बढ़ने दिया, जबकि केसीआर ने वादा किया था कि एक दलित को मुख्यमंत्री बनाया जाएगा.

यह आरोप लगाते हुए कि बीआरएस ने तेलंगाना के लोगों को विश्वासघात के अलावा कुछ नहीं दिया है, उन्होंने कहा कि तेलंगाना हजारों करोड़ रुपये के कर्ज में डूबा हुआ है. उन्होंने कहा, ”तेलंगाना की पहचान आज हजारों करोड़ रुपये के सिंचाई घोटालों से है.” उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि केसीआर ने संविधान में संशोधन की बात करके बीआर अंबेडकर और संविधान का अपमान किया है. पीएम मोदी ने केसीआर को ‘फार्महाउस सीएम’ भी करार दिया.

उन्होंने कहा, ”केसीआर अपनी कार का स्टीयरिंग किसी अन्य पार्टी को सौंपकर अपने फार्म हाउस में चले गए हैं.” पीएम मोदी ने आरोप लगाया कि केसीआर को लोगों के बच्चों के भविष्य की चिंता नहीं है बल्कि उन्हें अपने बच्चों और परिवार के भविष्य की चिंता है. उन्होंने तेलुगु में पूछा, “क्या आप ऐसा सीएम चाहते हैं जो लोगों से न मिले और जो सचिवालय न जाए। क्या तेलंगाना को फार्महाउस सीएम की जरूरत है.”

पीएम मोदी ने आरोप लगाया कि बीआरएस तकनीक में भी तुष्टिकरण की राजनीति लेकर आया है. उन्होंने स्पष्ट रूप से केसीआर द्वारा विशेष रूप से अल्पसंख्यक युवाओं के लिए एक आईटी पार्क विकसित करने के वादे का जिक्र करते हुए पूछा, “क्या अब धर्म के आधार पर आईटी पार्क होंगे? क्या यह भारतीय संविधान के प्रति आपका सम्मान है?”

इससे पहले, पीएम मोदी ने गजवेल निर्वाचन क्षेत्र के तूप्रान में एक चुनावी रैली को संबोधित किया, जहां भाजपा के एटाला राजेंदर केसीआर के खिलाफ चुनाव लड़ रहे हैं. उन्होंने कहा कि केसीआर दो सीटों से चुनाव लड़ रहे हैं, उन्हें गजवेल में राजेंद्र के हाथों हार की आशंका है. प्रधानमंत्री ने दावा किया कि केसीआर ने बेरोजगार युवाओं को नौकरी देने के अपने वादे को पूरा करने में विफल रहकर धोखा दिया.

उन्होंने कहा कि ग्रुप-1 और अन्य भर्ती परीक्षाओं के प्रश्नपत्र लीक होने से उनका भविष्य बर्बाद हो गया. केसीआर ने किसानों को पानी देने का वादा किया था लेकिन सिंचाई योजनाओं के नाम पर उन्होंने घोटाले किये. उन्होंने कहा, “राज्य के गठन से पहले उन्होंने कहा था कि वह लोगों के लिए काम करेंगे, लेकिन राज्य के गठन के बाद उन्होंने परिवार के लिए काम करना शुरू कर दिया. उन्होंने लोगों की आय बढ़ाने का वादा किया था, लेकिन अपने परिवार की आय में वृद्धि की.”

यह कहते हुए कि पिछड़े वर्गों (बीसी) के कई प्रतिभाशाली लोगों को मौका नहीं दिया गया, उन्होंने बीसी समुदाय से किसी को मुख्यमंत्री बनाने के भाजपा के वादे को दोहराया. उन्होंने दावा किया कि केवल भाजपा ही सामाजिक न्याय दिला सकती है. उन्होंने मदिगा जाति को आश्वासन दिया कि उनके साथ न्याय किया जाएगा.

पीएम मोदी ने कहा कि जब कांग्रेस केंद्र में सत्ता में थी तो बोफोर्स और कई अन्य घोटाले हुए और केसीआर के शासन में विधायक 30 प्रतिशत कमीशन ले रहे थे. उन्होंने कहा, “अगर कांग्रेस ने देश में भ्रष्टाचार किया, तो केसीआर ने राज्य में भ्रष्टाचार किया.” उन्होंने आरोप लगाया कि तेलंगाना को लूटने के बाद केसीआर की नजर देश पर पड़ी और लूट के लिए वह दिल्ली चले गये, जहां उन्होंने शराब घोटाले के लिए एक नेता से हाथ मिला लिया.

Tags: Assembly elections, Congress, K Chandrashekhar Rao, Narendra modi, Telangana

Source link

Leave a Comment

What does "money" mean to you?
  • Add your answer